Friday, 01 July 2022

पोस्ट रिपोर्ट्स

न्यूज़ पेपर / मैगज़ीन / पब्लिशर

एकनाथ शिंदे की बगावत : उद्धव ठाकरे और पवार ने छोटे दलो को नजरंदाज करने की कीमत चुकाई

एकनाथ शिंदे की बगावत : उद्धव ठाकरे और पवार ने छोटे दलो को नजरंदाज करने की कीमत चुकाई

SOURCE BY : POST REPORTS

एकनाथ शिंदे और उनके समर्थक उद्धव ठाकरे और कांग्रेस के काम करने के तरीके से नाराज थे । शिंदे समर्थक एकनाथ शिंदे को भविष्य का सीएम के रूप में क्योंकि 2019 में जब एमबीए का गठन किया जा रहा था तब ठाकरे द्वारा मुख्यमंत्री नामित किया गया था ।


कुछ दिन पहले जब शिवसेना ने अपना 56 वा अपना दिवस मनाया और कई रुकावटो के बावजूद अपने कार्यकाल के ढाई साल पूरा किया। सोमवार को सोमवार को 10 एमएलसी सीटों के लिए हुए चुनाव में 11 उम्मीदवार मैदान में थे खेत में बीजेपी और कांग्रेस दसवीं सीट के लिए लड़ रहे थे जिसके लिए किसी भी पार्टी के पास पहली वरीयता के वोट नहीं थे चुनाव के परिणामों ने इस मिथक को तोड़ दिया महा विकास आघाडी को विधानसभा में बहुमत का समर्थन प्राप्त है।


क्रॉस वोटिंग में बीजेपी को मदद


कुछ निर्दलीय और छोटे दलों के अलावा कांग्रेस और शिवसेना के विधायकों द्वारा का शूटिंग के कारण बीजेपी ने 5 सीटें जीती।


एकनाथ शिंदे और 41 विधायक पार्टी के संपर्क में नहीं है


महा विकास आघाडी एमएलसी चुनाव में अपनी हार के सदमे को बरकाती शिवसेना को पता चले कि उसके वरिष्ठ मंत्रियों में से एक एकनाथ शिंदे और लगभग 41 विधायक लापता हो गए हैं उनके फोन के जरिए उनसे संपर्क नहीं हो पा रहा है अंत में पता चला कि गुजरात के सूरत शहर में जहां से गुवाहाटी पहुंच गए हैं और चुनाव के परिणामों के थे तथा उनके समर्थक नेताओं के काम करने के तरीके से नाराज थे इसके अलावा के समर्थक उन्हें भविष्य के सीएम के रूप में देखते हैं


शिवसेना के बागी विधायकों के फिर से चुनाव में जाने के बाद उनके जितने पर भी प्रश्न चिन्ह लगता दिख रहा है ,क्योंकि ठाणे में शिंदे का वर्चस्व तो जरूर है शिवसेना और ठाणे शिवसैनिक एकनाथ शिंदे को वोट देंगे ना की बागी शिवसैनिक एकनाथ शिंदे को...