Saturday, 31 July 2021

पोस्ट रिपोर्ट्स

न्यूज़ पेपर / मैगज़ीन / पब्लिशर

हैंकर गैंग के 2 सदस्य पुलिस के हत्थे चढ़े, ६४ एटीएम कार्ड तथा पासबुक बरामद

हैंकर गैंग के 2 सदस्य पुलिस के हत्थे चढ़े, ६४ एटीएम कार्ड तथा पासबुक बरामद

SOURCE BY : POST REPORTS

Bureau Chief Vishnu Chansoliya Reports

Postreports Desk Team



हैंकर गैंग के 2 सदस्य पुलिस के हत्थे चढ़े, ६४ एटीएम कार्ड तथा पासबुक बरामद


 अन्य सदस्यों की तलाश जोरों पर


उरई। जालौन


बिभिन्न बैंकों तथा एटीएम से रकम हड़पने वाले हैंकर गिरोह के 2 सदस्यों को पुलिस ने नाटकीय अंदाज में गिरफ्तार करके जेल भेज दिया। पुलिस तथा साइबर टीम के द्वारा की गई छापेमारी में आरोपियों के पास से भारी मात्रा में एटीएम कार्ड तथा बैंकों की पासबुको को बरामद करने में सफलता हासिल की है।


 प्राप्त जानकारी के मुताबिक कालपी तथा आसपास के क्षेत्र में तमाम युवक रातो रात लखपति बनने का सपना संजोए हुए हैं। नगर तथा आसपास के ग्रामों के युवक एटीएम हैकर तथा दूसरे खातेदार के खातों से धन उड़ाने का धंधा करने लगे हैं। इसी को मद्देनजर रखकर पुलिस अधीक्षक डॉक्टर यशवीर सिंह ने कालपी कोतवाली के प्रभारी निरीक्षक रुप कृष्ण त्रिपाठी तथा जनपद की साइबर टीम को अपराधियों को पकड़ने निर्देश दिया गया। रात में महमूदपुर चौकी इंचार्ज आलोक पाल तथा साइबर सेल प्रभारी राम प्रताप सिंह , सिपाही घनश्याम मिश्रा , अमित प्रताप सिंह दल बल के साथ नगर के मोहल्ला हरी गंज में पहुंच गए।


मुखबिर की सूचना पर हरीगंज चौराहे में उप निरीक्षक आलोक पाल तथा साइबर सेल की टीम ने संदिग्ध हालत में मोटरसाइकिल सवार दो आरोपियों ईलू निषाद पुत्र बहादुर निवासी मोहल्ला महमूदपुरा तथा हेप्पी उर्फ दीपक पुत्र रामबाबू निषाद निवासी इंदिरानगर कालपी को दबोच लिया। पकड़े गए आरोपियों की तलाशी लेने पर 64 अदद विभिन्न बैंकों के एटीएम कार्ड तथा अलग-अलग बैंक शाखाओं की 13 पासबुक एवं दो मोबाइल सेट व एक आदत मोटरसाइकिल बरामद कर ली। पकड़े गए दोनों आरोपीगण एटीएम कार्ड तथा पासबुकों के बारे में जानकारी नहीं दे सके। पुलिस के मुताबिक दोनों आरोपी एटीएम कार्ड के माध्यम से अवैध रूप से एटीएम मशीनों से धन निकासी कर लेते थे तथा दूसरे के खातों से रकम भी उड़ा लेते थे। तमाम लोगों को आरोपी अपना शिकार बना चुके हैं।


पुलिस ने जुर्म धारा 420 आईपीसी तथा आईटी एक्ट की धारा ६७ सी तथा ६७ डी के अंतर्गत मुकदमा दर्ज कर आरोपियों को जेल भेज दिया है। उक्त प्रकरण की विवेचना एडिशनल इस्पेक्टर क्राइम उमाकांत ओझा के द्वारा की जाएगी। समझा जाता है कि आरोपियों का लंबा रैकेट है जो अलग-अलग क्षेत्रों में धोखाधड़ी तथा जालसाजी से रकम उड़ा लेते हैं। गिरोह की अन्य सदस्यों की पुलिस सरगर्मी से तलाश करने में गई है।