Saturday, 31 July 2021

पोस्ट रिपोर्ट्स

न्यूज़ पेपर / मैगज़ीन / पब्लिशर

अधूरा बना रह गया हैलीपेड, आसमान में मंड़राते हुए चला गया हेलीकॉप्टर!

अधूरा बना रह गया हैलीपेड,  आसमान में मंड़राते हुए चला गया हेलीकॉप्टर!

SOURCE BY : POST REPORTS

Bureau Chief Vishnu Chansoliya Reports

Postreports Desk Team



अधूरा बना रह गया हैलीपेड, आसमान में मंड़राते हुए चला गया हेलीकॉप्टर!


दूल्हों के दुल्हनों को हेलीकॉप्टर से बिदा करवाने के अरमान नही हो सके पूरे ।।।


जिला प्रशासन और क्षेत्रीय थाना से हेलीकॉप्टर नीचे उतारने का नही मिला परमीशन ।।।



।। दोनों जोड़ों को आसमान से ही अपने गांवों के चक्कर लगाकर करना पड़ा संतोष।


उरई। जालौन।।उड़न खटोला से दुल्हनों का विदाई कराने का सपना अधूरा रह गया। जिला प्रशासन से अनुमति नही मिलने से हेलीकॉप्टर नहीं आ पाया। और हेलीपैड अधूरा बना रह गया। हेलीकॉप्टर से बारात आने की क्षेत्र में चर्चाएं जोरों पर थी। ग्रामीण लोग हेलीकॉप्टर से आने वाली बारात देखने के लिए उत्साहित थे।प्राप्त जानकारी के अनुसार गोहन थाना क्षेत्र के ग्राम रसूलपुर निवासी नासिर खान जोकि बम्बई में बिजनेस करते है। जिनका लाखों का ब्यापार चलता है।


इन्ही के दो बेटों की शादी थी। दोनों बेटों को दूल्हा बनकर हेलीकॉप्टर से अपनी अपनी दुल्हनों को लेने अपने गांव से 02 से 03 किलोमीटर की दूरी पर ग्राम अजीतापुर आना था। जिसकी तैयारी दोनों पक्षों ने पूरी कर ली थी। रसूलपुर और अजीतापुर दोनों गांवों में हेलीपैड बनाने का काम भी शुरू कर दिया गया था। क्षेत्र में चर्चाएं भी थी।कि हेलीकॉप्टर से बारात आ रही है।और दुल्हनों की उड़न खटोले से बिदाई करवाई जायेगी। ग्रामीण देखने के लिए उत्साहित थे‌। लेकिन जिला प्रशासन ने हेलीकॉप्टर उतारने की अनुमति नहीं दी। जिसकी वजह से हेलीकॉप्टर से बारात नही आ पाई और बिना परमीशन के हेलीकॉप्टर नीचे नहीं उतर पाया। और दुल्हनों को उड़न खटोले से बिदा करवाने का सपना टूट गया। दूल्हों के अरमान अधूरे रह गये। और मन की उमंगों पर पानी फिर गया।


दिन में समय करीब 1.45 बजे के आसपास आसमान में हेलीकॉप्टर मंडराता दिखा। और लोगों के कानों में उड़न खटोले की आवाज गूंजने लगी।तो ग्रामीणों ने सोचा कि दुल्हनों की बिदाई के लिए उड़न खटोला आ गया।लोग अजीतापुर और रसूलपुर गांव की ओर हेलीकॉप्टर से आने वाली बारात देखने के लिए दौड़ने लगे।उड़न खटोले को रसूलपुर और अजीतापुर गांव के ऊपर आसमान में मंडराता देखकर पुलिस हरकत में आ गई। थानाध्यक्ष राजीव कुमार बैस व चौकी प्रभारी अर्जुन सिंह भी पुलिस फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे गये।और जानकारी ली कि बिना परमीशन के हेलीकॉप्टर कैसे आ गया।


और गांवों के आसपास चक्कर लगाने लगा। सूत्रों से पता चला कि दूल्हों के पिता नासिर सेठ ने अपनी बात पूरी करने के लिए दूल्हा बने अपने दोनों बेटों और दोनों बेटों की दुल्हनों को ग्वालियर से हेलीकॉप्टर में बिठाकर बेटों की ससुराल अजीतापुर और अपने गांव रसूलपुर के लिए भेजा है। जहां पर हेलीकॉप्टर ने आसमान में मंड़राते हुए दोनों गांवों के तीन चार चक्कर लगाऐ और ग्वालियर के लिए वापस हो गया।नीचे लैंड नही किया। जिला प्रशासन और क्षेत्रीय थाना पुलिस से अनुमति नही मिलने की बजह से उड़न खटोला नीचे नहीं उतर सका। और दोनों जोड़ों को उड़न खटोले से अपने गांवों के आसमान से ही चक्कर लगाकर सन्तुष्ट रहना पड़ा।